अपने बेडरूम में न करें ये गलतियां, वरना होगा ये नुकसान

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के बेडरूम का वास्तुदोष व्यक्ति की मानसिक स्तर को बहुट हद तक प्रभावित करता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार सोते समय कुछ वास्तु नियमों को ध्यान में रखना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार इस वास्तु नियम को अपनाना न केवल घर में सकारात्मक उर्जा के लिए अच्छा माना गया है, बल्कि अच्छी नींद के लिए भी अच्छी है। इसके अलावे धनलाभ के लिए भी लाभदायक माना गया है।

बाथरूम और बेडरूम

वास्तु शास्त्र के अनुसार इस बात को ध्यान रखना चाहिए कि यदि बाथरूम से बेडरूम जुड़ा हो तो ऐसी स्थिति में कोई भी नल रिस न रहा हो। बाथरूम के नल का रिसना नकारात्मक उर्जा को बुलावा देता है।

ऐनक की सही दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार पलंग के चारों ओर कोई ऐसा शीशा यानि मिरर नहीं होना चाहिए, जिसमें सोये-लेते व्यक्ति का कोई भी अंग नजर आए। साथ ही सोते समय सिरहाना पूर्व या दक्षिण की ओर होना चाहिए। इसके अलावे उत्तर और पश्चिम दिशा की ओर पैर होना चाहिए।

दीवारों का कलर

बेडरूम में दीवारों पर हलके रंग का होना ही वास्तु की दृष्टि से अच्छा माना गया है। दीवारों पर अनावश्यक पेंटिंग, पर्दे अथवा अन्य वस्तुएं न टंगी हो। बेडरूम की ऐसी स्थिति नकारात्मक उर्जा को बढ़ावा देता है। इसलिए इन चीजों का ध्यान देना ही चाहिए।

पलंग और नाईट लैंप

शास्त्रों के अनुसार रात्रि के पहली प्रहर में सोना बेहद लाभदायक माना जाता है। साथ ही ऐसे लोग जो इस प्रहर में सोते हैं उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है और ऐसे व्यक्ति धनवान भी बनते हैं। वास्तु के अनुसार बेडरूम में नाइट लैंप हमेशा पलंग से नीचे की तरफ रखें या छत की ओर प्रकाश करने वाले रखें। ऐसा लैंप रखना घर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। यहां ध्यान यह रखना है कि इस लैंप का प्रकाश सीधा आंख पर न पड़े।

maalaxmi