Wednesday, June 29

आरोपियों के साथ किया जाएगा इतना बड़ा काम

[ad_1]

हैदराबाद गैंगरेप और मर्डर केस से देश में रोष है। सबकी एक ही मांग है कि आरोपियों को जल्द से जल्द कड़ी सजा दिया जाए। इतना ही नहीं लोगों का यह भी कहना है कि या तो आरोपियों को फांसी दिया जाए या फिर उन्हें पीड़िता की जरत जलाया जाए। इन सबके बीच पुलिस को आरोपियों को लेकर एक डर सताने लगी है की कि कहीं उनपर अटैक न हो।

दरअसल, खुफिया विभाग के अलर्ट के बाद पुलिस को आरोपियों को लेकर चिंता सताने लगी है। पुलिस का कहना है कि जिस जगह पर आरोपियों को अभी रखा गया है वह भीड़भाड़ वाला इलाका है। लिहाजा, लोगों में जिस तरह का आक्रोश है यहां मिनटों में भीड़ जमा हो सकती है। इतना ही नहीं पुलिस अधिकारियों को एक आशंका यह भी है कि हालात का फायदा उठाने के लिए कुछ राजनीतिक दलों के लोग भी पुलिस थाने के सामने भीड़ को भड़का सकते हैं। पुलिस का कहना है कि कुछ संगठन वास्तव में घटना की निंदा करने और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग को लेकर सामने आए हैं। लेकिन कुछ लोग भीड़ को भड़काकर हिंसा फैलाना चाहते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस सूचना के बाद पुलिस सभी आरोपियों को दूसरी जगह शिफ्ट करने की तैयारी कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि सभी आरोपियों को चेरलापल्ली सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया जाएगा। इतना ही नहीं हो सकता है कि चारों आरोपियों को उनकी हिरासत के दौरान किसी अज्ञात स्थान पर रखा जाएगा या फिर सेंट्रल जेल में ही उनसे पूछताछ की जाएगी। इसके लिए पुलिस ने तैयारी भी शुरू कर दी है। अब देखना यह है कि आरोपियों को किस जगह रखा जाता है।

अक्षय कुमार के अलावा यामी गौतम, अनूप सोनी, रकुल प्रीत सिंह फरहान अख्तर, विजय देवरकोंडा, शबाना आजमी, कीर्ति सुरेश जैसे कई सितारों ने दुख व्यक्त किया है. लेकिन अब बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान ने भी अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर इस मामले पर गुस्सा दिखाया है और अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की गुहार लगाई है. महिला डॉक्टर की आत्मा के लिए उन्होने भगवान् से प्रार्थना भी की है.

सलमान ने अपने ट्वीट में लिखा, “ऐसे लोग इंसानी रूप में सबसे घिनौने शैतान हैं. अब समय आ गया है कि निर्भया और प्रियंका जैसी मासूम महिलाओं की हत्‍या, दर्द और उनकी तकलीफ हम सबको एक जगह लाकर खड़ा करे और ऐसे शैतानों का खात्मा हो. इससे पहले की कोई और मासूम लड़की इन दरिंदों के चंगुल में फंसे और उनका परिवार इस पीड़ादायी सफर से गुजरे. ये सब खत्म होना चाहिए. बेटी बचाओ सिर्फ एक कैंपेन बनकर नहीं रहना चाहिए. यही वह समय है जब इन राक्षसों को पता चले कि हम सब एक हैं. ईश्‍वर प्रियंका की आत्‍मा को शांति दे.”