उन्नाव के बाद अयोध्या में हैवानियत बाप ने ही बेटी को ज़िंदा जलाया

[ad_1]

अयोध्या : बेटियां कंही भी सुरक्षित नहीं है चाहे वह घर हो या फिर बाहर। आग के हवाले होना उनकी नियति बनती जा रही है। जहां एक पिता अपनी पुत्री के हाथ पीले कर अपने आप को सौभाग्यशाली समझता है वही अयोध्या में एक कलयुगी पिता ने अपनी पुत्री को ही आग के हवाले कर दिया। पुत्री पर डीजल छिड़ककर आग लगा दी। शराब के नशे में पिता ने अपनी 18 वर्षीय पुत्री नंदनी को उस समय आग के हवाले किया जब वह अपनी पत्नी को आग लगाने जा रहा था लेकिन एक पुत्री अपनी मां को बचाने के लिए सामने आई और पूरा का पूरा डीजल अपने शरीर पर रोक लिया।शराब के नशे में पिता ने पुत्री को ही आग के हवाले कर दिया। पुत्री ने अपनी मां को तो बाल-बाल बचा लिया लेकिन खुद को नहीं बचा पाई और लगभग 80% जल गयी।

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पुत्री को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहां से उसे नाजुक हालत में लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया है। लखनऊ ट्रामा सेंटर में उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। मामला थाना कैंट के हाशापुर गांव का है। देर रात नेतराम शराब पीकर अपने घर आया और अपनी पत्नी से पैसे मांगने लगा। दरअसल शराबी पति से अपनी गृहस्थी बचाने के लिए पत्नी पैसे अपने पास रखती थी।कुछ दिन पूर्व पत्नी ने अपनी जमीन बेची थी जिसके पैसे भी उसी के पास थे।शुक्रवार की देर रात जब शराब पीकर पति नेतराम वापस लौटा और शराब पीने के लिए पत्नी से पैसे मांगने लगा। जब पत्नी ने पैसे नहीं दिए तो घर में रखें डीजल का डिब्बा उठाकर अपनी पत्नी पर डीजल छिड़कने लगा लेकिन जैसे ही यह बात उसकी बेटी नंदिनी को मालूम हुई तो तुरंत अपनी मां को बचाने के लिए ढाल बन गई और सारा का सारा डीजल उसके बदन पर आ गिरा।

maalaxmi