प्रधानमंत्री की योजनाओं के नाम पर चल रहा फर्जीवाड़ा, बिहार में उड़ रही 2-2 लाख मिलने की अफवाह

[ad_1]

 केंद्र से लेकर राज्य सरकारें बेटियों की रक्षा और शिक्षा के लिए कई प्रकार की योजनाएं चला रही हैं. किन्तु अब इनकी आड़ में कुछ शातिर, आम लोगों को समय और पैसे का चूना लगाने से भी नहीं चूक रहे हैं. दरअसल एक अफवाह देश के दूसरे प्रदेश से होती हुई बिहार में पहुंच गई है. मामला बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के नाम पर किए जा रहे फर्जीवाड़े से सम्बंधित है.

हजारों बेटियां और उनके परिवार के लोग झूठे दावों के चक्कर में ना केवल अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, बल्कि उन्हें आर्थिक नुकसान भी झेलना पड़ रहा है. स्मार्ट फोन और इंटरनेट के माध्यम से आजकल घर बैठे ही लगभग सारे काम सरलता से हो जा रहे हैं. किन्तु इन सबके बीच बिहार के बिक्रम के जिन डाकघरों में आमतौर पर सन्नाटा फैला रहता था, वहां लंबी-लंबी कतारें लगी है. आलम ये है कि धक्का-मुक्की रोकने के लिए पुलिस को तैनात करना पड़ा है.

दरअसल प्रधानमंत्री बेटी बचाओ योजना के नाम पर बाजार में आजकल फर्जी फॉर्म सरेआम बिक रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि इस योजना के तहत बेटियों को सरकार की ओर से 2 लाख रुपये प्रदान किए जाएंगे. फार्म पर रजिस्ट्री भेजने के लिए जो पता दिया गया है, वह भी भ्रमित करने वाला है. इस फॉर्म में केंद्र सरकार के दो-दो मंत्रालयों का पता दिया गया है.

maalaxmi