प्राचीन काल में राजाओं और महाराजाओं ने एक से अधिक बार विवाह क्यों किया?

प्राचीन काल में राजाओं और महाराजाओं ने एक से अधिक बार विवाह क्यों किया?

दोस्तो आज हम आपको कुछ नया ही जानकारी देने वाले हैं और दोस्तो आजकल एक शादी के बाद दूसरी शादी तभी हो सकती है जब आप अपनी पहली पत्नी को तलाक दे दें। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि पहले के समय में राजा महाराजा तीन-चार या सात-आठ शादियां करते थे, उन्हें कोई नहीं रोकता था और ऐसा क्यों करते थे अब आज हम आपको बताएंगे कि पहले राजा इतनी शादियां क्यों करते थे।

इसका पहला कारण यह है कि राजा महाराजा के राज्य में एक उच्च पद पर आसीन था और उस समय वह अपनी पसंद की लड़कियों को विवाह का प्रस्ताव देता था, लड़कियों और उनके परिवारों को अपने प्रभाव से मजबूर करता था। राजा से लड़की का विवाह करने के बाद भी उसने अपने आप को ऊँचा दिखाने की कोशिश की।

ओर इसके बारे में आगे बात करे तो आपको बता देते हैं कि एक अन्य कारण यह भी है कि महाराजा की संधि के कारण कई राजाओं ने विवाह भी किया, अन्य राज्यों के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए उन्होंने एक से अधिक विवाह किए ताकि वे उनके साथ युद्ध न करें।

तीसरा कारण यह है कि उस समय महिलाएं इतनी जागरूक नहीं थीं और अपने अधिकारों से वंचित थीं, जिसके कारण उसने राजा से शादी करना बेहतर समझा और वह उसकी शादी का विरोध नहीं कर सकती थी।

अन्तमे आपको यह भी बताने वाले हैं कि जिसके कारण उसने शादी कर ली होगी। था चौथा कारण यह है कि राजा महाराजाओं के पास कोई कमी नहीं थी, वे आर्थिक रूप से संपन्न थे, इसलिए उन्होंने कई शादियां करने का मन नहीं किया और जिससे चाहें शादी कर ली।

seema