Wednesday, June 29

यहां पर ज्यादा बच्चे पैदा करने पर मिलता है स्वर्ण पदक, देश का नाम जानकर हो जाएंगे हैरान

[ad_1]

कजाकिस्तान देश की जन्म दर बढ़ाने में योगदान देने वाली वाली मांओं को ‘हीरो मदर्स’ का मेडल दिया जाता है।किसी परिवार में छह बच्चे होने पर मां को रजत पदक दिया जाता है। सात या उससे ज्यादा बच्चे पैदा करने पर मां को स्वर्ण पदक से नवाजा जाता है। पदक पाने वाली मांओं को सरकार से ताउम्र मासिक भत्ता भी मिलता है।

कजाखस्तान की रहने वाली रौशन कोजोमकुलोवा 10 बच्चों की मां हैं। उनके पास रजत और स्वर्ण पदक दोनों हैं। अपनी इन उपलब्धियों पर कोजोमकुलोवा को फख्र है। उनके घर में आठ लड़कियां और दो लड़के हैं। खाने की मेज पर सभी बच्चे एक साथ खाना खा रहे हैं। सबसे छोटा बच्चा बड़े भाई की गोद में बैठकर खाना खा रहा है। कोजोमकुलोवा अपने मेडल बैज टी-शर्ट के ऊपर लगाकर दिखाती हैं। स्वर्ण पदक मिलने के बाद वह उम्र भर सरकारी भत्ते की हकदार हैं।

माताओं को पदक से नवाजने और आर्थिक मदद देने की प्रथा सोवियत संघ के समय शुरू हुई थी। 1944 में सोवियत संघ ने ‘मदर हीरोइन’ पुरस्कार शुरू किया था। यह उन परिवारों को दिया जाता था, जिनमें 10 या अधिक बच्चे हों। मांओं को सम्मानित करने के लिए सोवियत सरकार उनको सितारे जैसा बैज और प्रशस्ति-पत्र देती थी।