संसद ने ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने का विधेयक किया पारित

[ad_1]

ई-सिगरेट पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का मार्ग प्रशस्त करते हुए राज्यसभा ने सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट (उत्पादन, निर्माण, आयात, निर्यात, परिवहन, बिक्री, वितरण, भंडारण और विज्ञापन) निषेध विधेयक 2019 को ध्वनिमत से पारित कर दिया। इस विधेयक को पहले ही लोकसभा में पारित कर दिया गया था जिसे बीती सितंबर में लाए गए अध्यादेश की जगह लेने के लिए पेश किया गया था।

विधेयक पर सदस्यों का जवाब देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बच्चों के व्यापक हित में सर्वसम्मति से विधेयक को पारित करने का आग्रह किया. मंत्री ने कहा, “अब इस बात के साक्ष्य हैं कि ई-सिगरेट बहुत हानिकारक है। यह एक दिन तंबाकू से भी बड़ा खतरा बन सकती है। इसलिए सरकार की मंशा इस समस्या को बड़ा बनने से पहले ही खत्म करने की है।”

सदन के अधिकांश सदस्यों ने ई-सिगरेट पर प्रतिबंध का समर्थन किया, जबकि कुछ सांसदों ने जानना चाहा कि पारंपरिक सिगरेट पर रोक क्यों नहीं लगाई जा रही क्योंकि वे भी समान रूप से या ज्यादा हानिकारक हैं।

maalaxmi