Wednesday, June 29

हैदराबाद एनकाउंटर पर उठे सवाल, पुलिस पर FIR दर्ज करने की मांग

[ad_1]

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस में चारों आरोपियों के साथ हुए एनकाउंटर पर सवाल उठने लगे हैं. सुप्रीम कोर्ट की वकील वृंदा ग्रोवर ने पुलिस पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की. उन्होंने कहा कि पुलिस पर मुकदमा दर्ज किया जानिए और पूरे मामले की स्वतंत्र न्यायिक जांच कराई जानी चाहिए. महिला के नाम में कोई भी पुलिस एनकाउंटर करना गलत है.


राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा, ‘एनकाउंटर हमेशा ठीक नहीं होते हैं. इस मामले में पुलिस के दावे के मुताबिक आरोपी बंदूक छीन कर भाग रहे थे. ऐसे में शायद उनका फैसला ठीक है. हमारी मांग थी कि आरोपियों को फांसी की सजा मिले, लेकिन कानूनी प्रक्रिया के तहत. हम चाहते थे कि स्पीडी जस्टिस हो. पूरी कानूनी प्रक्रिया के तहत ही कार्रवाई होनी चाहिए. आज लोग एनकाउंटर से खुश हैं, लेकिन हमारा संविधान है, कानूनी प्रक्रिया है.’

मेनका गांधी ने भी उठाए सवाल

भारतीय जनता पार्टी की सांसद मेनका गांधी ने भी एनकाउंटर पर सवाल उठाते हुए कहा है कि यह बहुत भयानक है. उन्हें फांसी की सजा मिलती, आप कानून को हाथ में नहीं ले सकते. आरोपियों को न्यायिक प्रक्रिया के तहत सजा मिलनी चाहिए.

हैदराबाद पुलिस से सीख ले UP पुलिस

इस मामले में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा कि बलात्कारियों में दहशत पैदा करने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस को हैदराबाद पुलिस से सीख लेनी चाहिए. मैं जब मुख्यमंत्री थी तब अपनी पार्टी के आरोपी लोगों को भी जेल भेजा था. उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस को अपना रवैया बदलना चाहिए.

बीजेपी ने की हैदराबाद पुलिस की तारीफ

वहीं, बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा, ‘धन्यवाद हैदराबाद पुलिस, यह बलात्कारियों से निपटने का तरीका है. आशा है अन्य राज्यों की पुलिस आपसे सीख लेगी.’

क्या है पूरा मामला

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस में चारों आरोपियों का शुक्रवार सुबह 3 से 6 बजे के बीच एनकाउंटर कर दिया गया है. पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने क्राइम सीन रिक्रिएट के दौरान हमला कर दिया और हथियार छीनकर भागने की कोशिश करने लगे. इस दौरान पुलिस ने आरोपियों को मार गिराया.