Wednesday, June 29

हैदराबाद कांड के दोषियों के लिए पवन जल्लाद ने कहा कुछ ऐसा, जानकर आप भी करेंगे तारीफ

[ad_1]

मेरठ में मौजूद पवन जल्लाद ने मंगलवार देर रात फोन पर बात करते हुए अपने दिल का सारा गम निकाल लिया। पवन ने कहा, “अगर सरकार ने निर्भया के दोषियों को मार दिया होता, तो हैदराबाद की निर्दोष दिशा को अपनी जान न गवानी पडती। निर्भया के दोषियों को तिहाड़ जेल में क्यों रखा गया है? ये मुसीबतें समाज में तब तक जारी रहेंगी, जब तक कि एक निडर घटना के लिए दोषी नहीं ठहराया जाता है या जब तक कि उनका जल्दबाजी में कोई उपाय नहीं किया जाए।

पवन ने कहा, मैं तैयार हूं। निर्भया के दोषियों को डेथ वारंट मिलता है और मैं तिहाड़ जेल पहुंच जाऊंगा। दोषियों को फांसी देने के लिए मुझे केवल दो से तीन दिन चाहिए। मैं सिर्फ ट्रायल चलाऊंगा और कोर्ट डेथ वारंट पर अमल करूंगा। पवन ने कहा, “मुझे इससे कोई शर्म नहीं है।” मेरे दादा लक्ष्मण और कालूराम भी फांसी देते थे। पिता भी फांसी देते थे। इसका मतलब यह है कि अब मै पारिवारिक व्यवसाय में चौथी पीढ़ी का निष्पादक हूं। पवन ने दादाजी कालूराम जल्लाद के साथ पटियाला सेंट्रल जेल में दो भाइयों को फांसी पर लटकाया था।

अब तक दादा के साथ पांच जानलेवा अपराधियों को फांसी देने वाले पवन के अनुसार, “पहले भाई दादा कालू राम के साथ दो भाइयों को सेंट्रल जेल में फांसी दी गई थी। उस समय मेरी उम्र 20-22 साल की होगी। अब मैं 58 साल का हो गया हूं।” 1988 में इलाहाबाद में नैनी जेल में दादा के साथ मिलकर दो व्यक्तियों को फांसी पर लटकाया था। हालांकि जिस काम का इंतजार पवन जल्लाद कर रहा था उस काम को तेलंगाना पुलिस ने कर दिया और एनकाउंटर में आरोपियों को मार गिराया। दोस्तो आपका तेलंगाना पुलिस द्वारा उठाये गए इस कदम के बारे में क्या राय है हमे जरूर बताएं।