मैरठ के इंजीनियरिंग स्टूडेंट ने किया कमाल, 45 दिन में अनोखी बाइक का किया आविष्कार, सिर्फ 2 घंटे चार्ज में 1080 किमी कर सकते है सफर

मैरठ के इंजीनियरिंग स्टूडेंट ने किया कमाल, 45 दिन में अनोखी बाइक का किया आविष्कार, सिर्फ 2 घंटे चार्ज में 1080 किमी कर सकते है सफर

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के छोटे से गांव में रहने वाले युवक ने इलेक्ट्रिक चॉपर बाइक बनाई है. इस बाइक की खासियत देखकर हर कोई हैरान है.

रोहित शर्मा ने मेरठ के प्राइवेट इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की और अपने गांव में ईको फ्रेंडली शानदार इलेक्ट्रॉनिक चॉपर बाइक तैयार कर हर किसी का ध्यान अपनी तरफ खींचा है. हर जगह रोहित और उसकी यूनिक बाइक की चर्चा हो रही है.

रोहित शर्मा बागपत के एक छोटे से गांव मितली का रहने वाले हैं. उन्होंने मेरठ के दिल्ली इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग से बीटेक मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की.

 

रोहित का कहना है कि चॉपर बाइक देश में नहीं बनती है, इसलिए यह पहली इलेक्ट्रिकल चॉपर बाइक है जो उन्होंने खुद बनाई है. एक बार चार्ज होने पर यह बाइक 1080 किलोमीटर तक चल सकती है. इसे चार्ज होने में महज दो घंटे का समय लगता है.

इस चॉपर बाइक की टॉप स्पीड 120 किलोमीटर प्रति घंटा है. साथ ही यह बाइक 700 किलोग्राम भार उठा सकती है. रोहित का कहना है कि यह चॉपर बाइक 13 फीट लंबी है और उनका दावा है कि यह दुनिया की सबसे लंबी बाइक है.

इसके लिए उन्होंने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करने के लिए इसका आवेदन भी किया है. चॉपर बाइक को 0 से 40 तक का पिकअप पकड़ने में महज केवल 3 सेकेंड का वक्त लगता है. रोहित की मानें तो उसकी यह बाइक दुनिया की सबसे बड़ी पावरफुल इलेक्ट्रॉनिक बाइक है जो पूरी तरह से इको फ्रेंडली है.

 

रोहित ने अपनी इस बाइक का नाम ‘महाबली’ रखा है. इस बाइक को बनाने में रोहित को 45 दिन का समय लगा. इसके लिए उसे दो सात तक पैसे जोड़े इसे बनाने में एक लाख 20 हजार रुपये की लागत आई है. बाइक को पूरी तरह हाथ से बनाया गया है.

इसकी चेसिस और पूरी बॉडी हाथ से बनाई. सिर्फ टायरों को बाहर से खरीदा गया. रोहित ने दावा किया कि अब तक चॉपर बाइक अमेरिका में चलती थी और यह हिंदुस्तान की बनी हुई पहली चॉपर बाइक होगी.

Prakash Mali