ये है कालीन भैया की कहानी, बिहार के एक छोटे से गांव से मुंबई पर राज करने का है सफर, जानिए सबकुछ।

ये है कालीन भैया की कहानी, बिहार के एक छोटे से गांव से मुंबई पर राज करने का है सफर, जानिए सबकुछ।

आप तो जानते ही होंगे कि पंकज त्रिपाठी आज सिनेमा की दुनिया का अहम हिस्सा बन चुके है। पंकज त्रिपाठी की गिनती सिनेमा के मंझे हुए कलाकारों में होती है। जो अपने अभिनय से किसी किरदार में जान फूंक देते हैं।

 

चाहे वो माधव मिश्रा का किरदार हो या फिर कालीन भईया का, या फिर गैंग्स ऑफ वासेपुर के सुल्तान मिर्जा का हर किरदार में उन्होंने एक अलग जान फूंक दी हैं।

 

बिहार का लाल कर रहा है कमाल

आप को बता दें कि पंकज त्रिपाठी बिहार के गोपालगंज से आते है। उन्होंने कड़ी मेहनत से बॉलीवुड में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। पटना के मौर्या होटल से शुरू हुआ सफर अब मुम्बई के फ़िल्म इंडस्ट्री तक पहुँच चुका हैं।

 

सोशल मीडिया और व्हाट्सअप तक से है परहेज

पंकज त्रिपाठी सोशल मीडिया और लाइमलाइट से दूर रहने वाले इंसान है। आज के इस सोशल मीडिया के दौर में पंकज त्रिपाठी सोशल मीडिया प्लेटफार्म से दूरी बनाई हुई है। यहां तक कि वो व्हाट्सअप से भी परहेज करते हैं।

 

आज भी है गांव का अलग अंदाज़

बता दें कि पंकज त्रिपाठी जब अपने गांव आते है तो, सिनेमा और स्टारडम का चोला उतार कर आते है। ठेठ गवई अंदाज़ में ही गांव के लोगों और दोस्तों से मिलते हैं।

 

सफलता की इस बुलंदी पर पहुचने के बाद ऐसा कर पाना आसान नही है। लेकिन अपने कालीन भईया ने इसे कर दिखाया है। वो आज भी गांव आने पर लिट्टी चोखा का मज़ा वैसे ही पुराने दिनों के भांति ही लेते हैं।

navneet