जब अमिताभ बच्चन हो गए थे कंगाल, लेनदार घर आकर देते थे गालियां, तब धीरुभाई अंबानी ने की थी मदद, पूरा किस्सा जानकर हैरान रह जाएंगे।

जब अमिताभ बच्चन हो गए थे कंगाल, लेनदार घर आकर देते थे गालियां, तब धीरुभाई अंबानी ने की थी मदद, पूरा किस्सा जानकर हैरान रह जाएंगे।

आप तो जानते ही होंगे कि अमिताभ बच्चन को बॉलीवुड के बिग-बी भी कहा जाता है। उन्होंने अपने जीवन में काफी शौहरत कमाई है। वे बडे और छोटे पर्दे के बादशा रहे है। इस समय अमिताभ बच्चन केबीसी 14 हॉस्ट कर रहे है।

लेकिन क्या आप जानते है कि एक वक्त था जब अमिताभ बच्चन ने अपने हाथ बिजनैस में भी आजमाए थे। ये सुनकर आप हैरान रह गए होंगे, लेकिन एक सच है।

अमिताभ बच्चन ने एक कंपनी खोली थी। जिसका नाम एबीसीएल था। लेकिन इस कंपनी की वजह से अमिताभ का काफी कर्जा हो गया था। उनके दिवालया होने की नोबत आ गई थी। जिसके बाद मुकेश अंबानी के पिता धीरुभाई अंबानी ने अमिताभ बच्चन को मदद की पेशकश की थी।

अमिताभ बच्चन की कंपनी में था ये काम

आप को बता दें कि अमिताभ बच्चन की कंपनी का नाम अमिताभ बच्चन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (ABCL) था। यह कंपनी साल 1996 में बनी थी। यह कंपनी फिल्म प्रॉडक्शन, डिस्ट्रीब्यूशन और इवेंट मैनेजमेंट का काम करती थी। अमिताभ को इस कंपनी से काफी उम्मीदें थीं। उनका सपना साल 2000 तक इस कंपनी के रेवेन्यू को 1000 करोड़ रुपये तक पहुंचाना था।

 

कंपनी डूब गई कर्ज में

बता दें कि अमिताभ बच्चन ने 60.52 करोड़ रुपये खर्च करके एबीसीएल खड़ी की थी। इस कंपनी को लेकर अमिताभ के कई फैसले गलत साबित हुए। कंपनी पर भारी कर्ज हो गया था। अमिताभ ने बताया था कि उनके ऊपर अलग-अलग लोगों का करीब 90 करोड़ रुपये का कर्ज हो गया था। कर्ज में दबी यह कंपनी आखिरकार डूब गई।

आखिर क्यों डूब गई थी अमिताभ बच्चन की कंपनी

अमिताभ की इस कंपनी को डुबाने में कई प्रोजेक्ट्स का हाथ है। एबीसीएल के बैनर तले बनी फिल्म मृत्युदाता बुरी तरह फ्लॉप रही थी। एबीसीएल की एक और फिल्म ‘सात रंग के सपने’ भी नहीं चल पायी। वहीं, एबीसीएल ने एक ऐसी फिल्म में पैसा लगाया जो कभी रिलीज ही नहीं हो सकी। इस फिल्म का नाम ‘नाम क्या है’ था।

घर के दरवाजे पर आकर धमकाते थे लोग

अमिताभ बच्चन ने बताया था कि मैं इस बात को कभी नहीं भूलूंगा की किस तरह से लेनदार हमारे दरवाजे पर आ जाते थे। वे घर आकर गालियां और धमकियां दिया करते थे।

 

धीरुभाई अंबानी अमिताभ बच्चन की करना चाहते थे मदद

बता दें कि अमिताभ बच्चन ने रिलायंस कंपनी की 40वीं वर्षगांठ पर अपने कठिन दिनों के बारे में बताया था। उन्होंने कहा कि जब धीरूभाई को मेरी खराब वित्तीय हालत का पता चला, तो उन्होंने अनिल अंबानी को मेरे पास भेजा। जिसके बाद अनिल अंबानी मुझसे आकर मिले।

वो मुझे जितना पैसे दे रहे थे। उससे मेरी सारी परेशानी खत्म हो जाती। मैं उनकी उदारता पर भावुक हो गया था। लेकिन मुझे लगा कि शायद मैं उनकी उदारता को स्वीकर नहीं कर पाऊं। भगवान का आशीर्वाद रहा और समय बदल गया। मुझे काम मिलना शुरु हुआ और मेरे सारे कर्ज चूक गए।

 

इस तरह की अमिताभ बच्चन दोबारा वापसी

बता दें कि अमिताभ ने 2000 की साल में फिल्म ‘मोहब्बतें’ और ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में टेलिविजन डेब्यू से जोरदार वापसी की। इसके बाद अमिताभ बच्चन की लोकप्रियता में पहले से भी ज्यादा इजाफा हो गया।

अमिताभ बच्चन ने इसके बाद कभी खुशी कभी गम, आंखें, बागबान, खाकी, देव, लक्ष्य, वीर-जारा, बंटी और बबली, चीनी कम, भूत नाथ, सरकार, पा, पीकू, पिंक और गुलाबो सिताबो जैसी एक से बढ़कर एक बेहतरीन फिल्में दी हैं।

navneet