जब रात 2 बजे अचानक हो गया था पिता का निधन, फिर भी सुबह विराट कोहली ने मैदान पर 90 रन बनाकर टीम को बचाया फॉलोओन से।

जब रात 2 बजे अचानक हो गया था पिता का निधन, फिर भी सुबह विराट कोहली ने मैदान पर 90 रन बनाकर टीम को बचाया फॉलोओन से।

बता दें कि विराट कोहली की उम्र जब 17 साल की थी, उस दौरान उनके पिता का निधन हो गया था। एक इंटरव्यू के दौरान उनसे इस घटना के बारे में पूछा, तो वे काफी इमोशनल हो गए थे।

विराट कोहली ने बताया कि जब उनके पिता का निधन हुआ तब वे दिल्ली और कर्नाटक के बीच रणजी ट्रॉफी का मैच खेल रहे थे। वे 40 रन बनाकर नॉट आउट थे। उन्हें अगले दिन बल्लेबाजी करना था। ऐसे में उनकी टीम पर हार का भी खतरा मंडरा रहा था। सारी टीम की नजरें विराट कोहली पर टिकी थी।

ऐसे में कोहली दिन का खेल खत्म करके अपने हॉटल पहुंचे। जिस के बाद उनके पास तीन बजे अचानक घर से कॉल आया। विराट को बताया गया कि ब्रेन स्टोक के चलते उनके पिता का निधन हो गया। वे जल्द से जल्द घर आने की कोशिश करें।

 

इस बात को सुनकर विराट कोहली तुरंमत घर के लिए निकल गए। लेकिन उनके सामने अब सबसे बडी चुनौती यह थी कि वह ऐसी स्थिति में टीम के साथ रहे या अपने परिवार पर ध्यान दें।

ऐसे में उन्होंने खेलने जाने का निश्वित किया। विराट कोहली बताते है कि वे अपनी कार से मैदान पर जाया करते थे। जहां वे रास्ते से इशांत शर्मा को पिकअप करते थे। जब भी साथ इंशात होते थे तो वे अपनी अंदाज में मस्ती और चिल करते हुए मैदान तक जाया करते थे।

 

लेकिन उस दिन कोहली को शांत देख इशांत ने उनसे पूछा कि इतने शांत क्यों हो। इस पर कोहली ने बताया कि उनके पिता का अचानक निधन हो गया। जिस के बाद इशांत शर्मा भी ये बात सुनकर चौंक गए थे। इशांत शर्मा ने मैदान पर जाकर सभी साथी खिलाडी को इस बात की जानकारी दी।

इसे सुनते ही सभी साथी खिलाडी ने विराट कोहली को घर वापस जाने की सलाह दी। लेकिन कोहली ने मैदान पर रहना बेहतर समझा। विराट ने मैदान पर उतरकर 90 रनों की पारी खेली और टीम को फॉलोओन से बचाया। जिस के बाद विराट घर आ गए औऱ पिता का अंतिम संस्कार किया।

navneet